गठिया को जड़ से खत्म करने के उपाय | Gathiya Rog Ka Ilaaj

गठिया को जड़ से खत्म करने के उपाय – गठिया या अर्थराइटिस एक गंभीर समस्या है। जिससे ग्रसित मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। गठिया की समस्या ज्यादातर बुजुर्ग लोग ग्रसित होते है। लेकिन आजकल इस समस्या से युवा पीढ़ी भी देखने को मिल रही है।

अगर शरीर में सामान्य से अधिक यूरिक एसिड बनने लगे तो अर्थराइटिस की समस्या होने लगती है। गठिया रोग की शुरुआत सबसे पहले पैर से होती है और धीरे-धीरे शरीर के दूसरे जोड़ो तक भी फैल जाता है। गठिया रोग होने पर रोगी के जोड़ों में तेज दर्द होता है जिसका इलाज न किया जाए तो व्यक्ति को कई समस्यायों का सामना करना पड़ सकता है।

आज के इस पोस्ट में हम गठिया के कारण, लक्षण और गठिया को जड़ से खत्म करने के उपाय के बारे में से जानेंगे जिससे आपको काफी हद तक गठिया से आराम मिल सकता है।

विषय सूची

आर्थराइटिस क्या है – What is Arthritis in Hindi

gathiya rog ka ilaaj

गठिया रोग को साइलेंट रोग या आर्थराइटिस कहा जाता है। जब हड्डियों के जोडो़ यूरिक एसिड सामान्य मात्रा से अधिक जमा हो जाता है तो वह गठिया का रूप ले लेता है।

गठिया एक दर्दनाक रोग है जो शुरुआत में हल्के दर्द हल्के से शुरू होकर मरीज की गंभीर अवस्था हो सकती है।

गठिया रोग होने पर रोगी के जोड़ों में दर्द, अकड़न, सूजन और कांटे चुभने जैसा महसूस होता है। और सबसे ज्यादा रोगी को समस्या जोड़ो में जैसे कोहनियां और घुटने में होती है जहाँ पर दो हड्डियां आपस में मिलती हैं।

यह रोग ज्यादातर 40 से 60 वर्ष के उम्र के लोगो को होता है साथ ही महिलाओं की तुलना में पुरुषों को ज्यादा होता है।

(और पढ़ें – चेहरे को गोरा और सुंदर बनाने के उपाय)

गठिया रोग के लक्षण – Symptoms of Arthritis in Hindi

गठिया रोग के मुख्य लक्षण होते हैं जैसे जोड़ों में दर्द, सूजन और जकड़न का आना। इसके अलावा गठिया रोग से ग्रसित इंसान को उठने बैठने, चलने फिरने और घूमने काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

गठिया रोग व्यक्ति को धीरे-धीरे अपनी चपेट में लेता है। इसके अलावा एक व्यक्ति के गठिया रोग के लक्षण दूसरे व्यक्ति से अलग हो सकते हैं।

गठिया के कारण – Causes of Arthritis in Hindi

गठिया रोग होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे –

  • गठिया रोग होने का अनुवांशिक कारण भी हो सकता है जैसे अगर आपके पूर्गवज को गठिया रोग की समस्या थी तो आपको भी आर्थराइटिस की समस्या से जूझना पड़ सकता है।
  • आमतौर पर 50-60 वर्ष के लोगो को गठिया रोग की समस्या होती है। लेकिन आजकल युवा पीढी भी आर्थराइटिस की समस्या से जूझ रही है।
  • अगर आपके शरीर की हड्डियों के जोड़ में कोई गहरीचोट लगी है, तो गठिया की समस्या हो सकती है।
  • अगर आपके शरीर का वजन अधिक है तो घुटनों, कूल्हों और कमर पर ज्यादा बोझ पड़ने से आगे चलकर इससे गठिया रोग हो सकता है
  • शरीर में किसी बैक्टीरिया या वायरस होने के कारण गठिया रोग होने का खतरा रहता है।

(और पढ़ें – एसिडिटी को जड़ से खत्म करने के उपाय)

गठिया रोग को जड़ से खत्म करने के उपाय – Gathiya Rog Ko Khatam Karne Ke Upay

गठिया रोग होने पर रोगी को इतना दर्द होता है कि व्यक्ति काम करने में असमर्थ हो जाता है। इसके अलावा रोगी को उठने-बैठने, चलने फिरने में  तकलीफ होती है।

गठिया के दर्द को हल्के में नहीं लेना चाहिए बल्कि जल्द से जल्द इसका इलाज करना चाहिए। तो चलिए जानते हैं कि गठिया को जड़ से खत्म करने के उपाय कौन-कौन से हैं।

1.) गठिया का घरेलू इलाज है अदरक

गठिया रोग से छुटकारा पाने के लिए अदरक का इस्तेमाल किया जा सकता है। अदरक शरीर के प्रोस्टाग्लैंडीन के स्तर को कम में मदद करता है और आर्थराइटिस की समस्या दूर होती है।

इसके लिए आप सुबह-शाम अदरक वाली चाय का पी सकते हैं। इसके अलावा गठिया से प्रभावित जगह पर अदरक का तेल लगाने से सूजन और दर्द दूर होता है।
(और पढ़ें – अदरक के फायदे)

2.) गठिया का घरेलू उपाय है हल्दी

हल्दी खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ ही कई तरह के रोगों से छुटकारा दिलाने में करती है। हल्दी में करक्यूमिन नामक एक तत्व मौजूद होता है गठिया के दर्द से आराम दिलाने में मदद करता है। इसके साथ ही हल्दी में मौजूद एंटी इंफ्लेमेंट्री गुण जोड़ो में सूजन कम करने में मदद करते है।

गठिया को जड़ से खत्म करने के उपाय करने के लिए एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी मिलाकर पी सकते हैं। इसके अलावा गठिया से प्रभावित वाली जगह पर हल्का गर्म हल्दी को एक कपड़े में बांधकर लपेट लें। इससे दर्द औऱ सूजन दूर हो जायेगी।

3.) गठिया रोग को जड़ से खत्म करने के उपाय है तुलसी

तुलसी एक औषधीय पौधा है जिसमें कई सारे विटामिन्स और मिनरल्स उच्च मात्रा में पाए जाते हैं। इसके अलावा आर्थराइटिस की समस्या से निजात दिलाने में तुलसी मदद कर सकता है।

इसके लिए रोजाना 3 – 4 तुलसी के पत्ते का सेवन कर सकते हैं या तुलसी की चाय पी सकते हैं।

4.) गठिया को जड़ से खत्म करने के उपाय है अश्वगंधा

अश्वगंधा एक आयुर्वेद जड़ी-बूटी है जिसका इस्तेमाल करने से कई घातक बिमारियों को ठीक किया जा सकता है। साथ ही अश्वगंधा गठिया रोग को जड़ से खत्म करने के उपाय में कारगर माना जाता है।

अश्वगंधा की चाय बनाकर पीने से गठिया के मरीजों को फायदा मिलता हैं।
(और पढ़ें – अश्वगंधा के फायदे)

5.) गठिया रोग का घरेलू नुस्खा है मेथी

मेथी के दाने स्वाद में भले ही कड़वे होते है लेकिन इनका सेवन करने से बहुत फायदे होते है। मेथी को एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटी आर्थराइटिक का प्रमुख स्रोत माना जाता है। इसलिए गठिया रोग से ग्रसित रोगियों को मेथी का सेवन करना चाहिए।

इसके लिए एक चम्मच मेथी के दानो को 1 कफ पानी में डालकर रात भर के लिए रख दें। अगली सुबह उठकर इस पानी को पिएँ और दानो को चबाकर खायें।

6.) गठिया के दर्द से तुरंत राहत दिलाता है सेब का सिरका

सेब का सिरका में कई सारे पोषक तत्व पाए जाते है जो शरीर के लिए लाभदायक होते हैं। इसके साथ सेब का सिरके की खास बात यह है कि इसे लम्बे समय तक स्टोर करके रखा जा सकता है।

गठिया को जड़ से खत्म करने के उपाय करने के लिए एक कप गर्म पानी में एक चम्मच सेब का सिरका और शहद मिलाकर मिश्रण तैयार कर लें। अब इस मिश्रण को रोज सुबह पिएं।
(और पढ़ें – सेब का सिरका पीने के फायदे)

7.) गठिया का घरेलू उपचार है लहसुन

लहसुन में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते है जो जोड़ों में दर्द और सूजन को कम करने में मदद करते है। आर्थराइटिस की समस्या से छुटकारा पाने के लिए रोजाना सुबह तीन-चार लहसुन की कच्ची कलियों का सेवन कर सकते है।
(और पढ़ें – लहसुन खाने के फायदे)

8.) गठिया रोग के घरेलू उपचार में गर्म सिकाई

गठिया रोग से छुटकारा पाने के लिए गर्म पानी से सिकाई कर सकते हैं। सिकाई करने से जोड़ों का अकड़न दूर होता है और मांसपेशियां नरम होती हैं। साथ ही पूरे शरीर में रक्त का संचार अच्छी तरह से होता है।

आप चाहे तो गर्म पानी से नहा सकते हैं या फिर बाथ टब में गर्म पानी भरकर उसमें कुछ मिनट के लिए बैठकर सिकाई कर सकते हैं।

9.) गठिया को जड़ से खत्म करने के उपाय है सरसों का तेल

सरसों के तेल में कई सारे ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो दर्द निवारण के रूप में काम करते हैं। इसलिए गठिया रोग से छुटकारा पाने के लिए सरसों के तेल बहुत कारगर होता है।

इसके लिए थोड़ा सा सरसों का तेल गर्म करे पर धीरे-धीरे मालिस करें। अगर आपको दर्द के साथ-साथ सूजन भी है तो सरसों का तेल के बराबर मात्रा में प्याज का रस मिलाकर मालिस कर सकते हैं।

10.) आर्थराइटिस का उपाय करें मुलेठी से

मुलेठी एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसमे कई लाभकारी तत्व पाए जाते हैं। आर्थराइटिस की समस्या से छुटकारा दिलाने में मुलेठी मददगार साबित हो सकती है।

बाजार में आपको मुलेठी कई प्रकार से मिल जायेगी जैसे सूखी छड़, पाउडर, टैबलेट, कैप्सूल या फिर जेल के रूप में । मुलेठी को आप चूस कर या अन्य तरीके से सेवन कर सकते हैं।

गठिया में क्या नहीं खाना चाहिए

अगर आप गठिया के मरीज हैं तो आपको खाने में परहेज करना चाहिए जैसे –

  • गठिया के मरीजो को ज्यादा नमक का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • भिंडी, अरबी, उड़द की दाल आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • धूम्रपान और शराब नहीं पीना चाहिए।
  • अधिक मात्रा में मिर्च मसालेदार, तले हुए खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • खटाई युक्त भोज्य पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए जैसे इमली, दही, अमचूर आदि।
  • आपको ज्यादा चाय, कॉफी, शराब व मांस आदि नहीं खाना चाहिए।

गठिया से सम्बंधित प्रश्न-उत्तर

गठिया में कौन सी दाल खानी चाहिए?

मसूर और चने की दाल गठिया के मरीजों को ज्यादा फायदेमंद होती है।

गठिया किस कमी से होता है?

गठिया होने का मुख्य कारण शरीर में कैल्शियम की कमी होना। इसके अलावा घुटनो में चोट लगने से गठिया होने का खतरा बढ़ जाता है।

गठिया के मरीज को क्या नहीं खाना चाहिए?

गठिया के मरीज अपने खाने में परहेज करना चाहिए जैसे ज्यादा नमक न खाएं, भिंडी, अरबी, उड़द का सेवन न करें।

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है आपको यह पोस्ट गठिया को जड़ से खत्म करने के उपाय (Gathiya Rog Ka Ilaaj) जरुर पसंद आया होगा। इस पोस्ट में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. इसलिए इस पर अमल करने से पहले किसी डॉक्टर या विशेषज्ञ की परामर्श जरूर लें।

अन्य पढ़ें –

About Editorial Staff

Hindi Me Post पर आपको कंप्यूटर, टेक्नोलॉजी, डिजिटल मार्केटिंग और ऑनलाइन पैसे कमाने की जानकारी शेयर की जाती है. हमारा मकसद है हम एक दम सरल भाषा आपको जानकरी दें. Facebook | Instagram | Twitter

1 thought on “गठिया को जड़ से खत्म करने के उपाय | Gathiya Rog Ka Ilaaj”

Leave a Comment