सुबह खाली पेट किशमिश खाने के फायदे | Raisins in Hindi

प्रकृति ने हमें कई प्रकार के अनाज, फल सब्जियां दिए है. सभी लोग अपने स्वादानुसार इनका उपभोग करते हैं. कुछ फल ऐसे होते हैं जो स्वाद के साथ साथ शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं. उन्ही फल मे से एक है किशमिश जिसका सेवन करने से शरीर स्वस्थ और कई शारीरिक रोगों से लड़ने में मदद करता है.

किशमिश को ड्राई फ्रूट्स का राजा कहा जाता है जिसके कई स्वास्थवर्धक लाभ होते है. किशमिश का सेवन सभी उम्र के लोग कर सकते हैं. वैसे कई लोग ऐसे है जो किशमिश का सेवन रोजाना करते हैं लेकिन किशमिश कब और कैसे खाना चाहिए इस बात की जानकारी कुछ ही लोगो को होती है.आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे कि किशमिश कब खाना चाहिए और किशमिश खाने के फायदे (kismis khane ke fayde) क्या क्या होते हैं.

विषय सूची

किशमिश क्या है – Raisins Meaning in Hindi

raisins meaning in hindi
किशमिश एक प्रकार का सूखा मेवा है जिसे अंगूर को सुखाकर बनाया जाता है. किशमिश का स्वाद खटमिट्ठा होता है. किशमिश का आकार देखने में बहुत छोटा होता है लेकिन इनमे विटामिन्स और मिनरल्स की भरपूर मात्रा पायी जाती है. बाजार में कई प्रकार के ड्राई फ्रूट्स उपलब्ध है लेकिन किशमिश उनमे से सबसे ज्यादा लोकप्रिय माना जाता है.

रोजाना किशमिश का सेवन करने से शरीर स्वस्थ और ऊर्जावान बना रहा रहता है.किशमिश की खेती भूमध्यसागरीय क्षेत्रों में ज्यादातर की जाती है.किशमिश स्वर्वधिक उत्पादन यूरोप देशों में किया जाता था यहाँ ग्रीक और रोमन लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय था.आगे इस पोस्ट में हर रोज दूध में किशमिश खाने के फायदे के बारे में विस्तार से जानते हैं.

किशमिश के प्रकार – Types of Raisins in Hindi

किशमिश मुख्य रूप से तीन प्रकार की होती है. तो आइये तीनो प्रकार की किशमिश के बारे में विस्तार से जानते हैं.

1. भूरी किशमिश – Brown Raisins in Hindi

इस प्रकार की किशमिश का रंग भूरा होता है और इसको बनाने  के लिए अंगूरों को तीन हफ्तों तक सुखाया जाता है. सूखने के बाद अंगूर का रंग भूरा हो जाता है इसलिए इसे भूरी किशमिश कहा जाता है.

 2. गोल्डन या सुल्ताना किशमिश – Golden Raisins in Hindi

इस किशमिश को बनाने के लिए बिना बीज के अंगूर का इस्तेमाल किया जाता है.इसके लिए सबसे पहले अंगूर को तैलीय पदार्थ में भिगोया जाता है फिर उसे सूखने के लिए रख दिया जाता है जिसकी वजह से इसका रंग गोल्डन हो जाता है. गोल्डन किशमिश अन्य किशमिश की तुलना में ज्यादा स्वादिष्ट होती है.

3. काली किशमिश – Black Raisins in Hindi

काली किशमिश को करंट किशमिश भी कहा जाता है. इस किशमिश को बनाने के लिए भी तीन हफ्ते तक अंगूर को सुखाया जाता है. खाने में इस किशमिश का स्वाद खट्टा-मिट्ठा होता है. इस किशमिश की खाशबात यह है कि देखने में इसका रंग काला और मुलायम होता है.

किशमिश खाने के फायदे – Kismis Khane Ke Fayde

मुनक्का या किशमिश को खाने से कई स्वास्थवर्धक लाभ होते है इसके साथ ही किशमिश इस्तेमाल कई प्रकार के रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता है. तो चलिए जानते है कि भीगी किशमिश के फायदे (kismis ke fayde) क्या क्या हैं.

1. एनीमिया में फायदेमंद है भीगी हुई किशमिश

गलत खानपान और अनियमित दिनचर्या के कारण हमारे शरीर को कई बीमारियाँ घेरने लगती है.वहीं, यदि समय पर बिमारियों का इलाज न किया जाए तो इसके घातक परिणाम साबित हो सकते हैं इन्ही बिमारियों में से एक नाम एनीमिया है। इसे शरीर में खून की कमी भी कहते हैं.एनीमिया रोग होने का प्रमुख कारण होता है शरीर में आयरन की कमी का होना.

किशमिश का सेवन करने से  एनीमिया को दूर किया जा सकता है. किशमिश में आयरन की भरपूर मात्रा पायी जाती है जो शरीर में हीमोग्लोबिन के स्तर को बढाती है जिससे एनीमिया रोग दूर होता है.

2. पीलिया को दूर करने में किशमिश के लाभ

जब शरीर में बिलीरुबिन का स्तर बढ़ जाता है तो त्वचा, नाखून और आंखों होने लगती है इस समस्या को पीलिया रोग कहा जाता हैं. पीलिया एक सामान्य-सा दिखने वाला रोग हैं लेकिन यदि समय पर इसका इलाज न किया जाए तो रोगी को कई घातक परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं. पीलिया रोग होने पर सबसे पहले यह रोगी के लीवर को नुकसान पहुचाता है और फिर धीरे-धीरे पूरे शरीर पर हावी हो जाता है.

पीलिया के उपचार में किशमिश का इस्तेमाल किया जाता है. किशमिश में आयरन, फाइबर और प्रोटीन प्रचुर मात्रा में पायी जाती है जो पीलिया को नियंत्रित करने में मदद करता है.

3. भीगी किशमिश के फायदे कब्ज को दूर करने में

कब्ज के आम समस्या है जो किसी को हो सकती है.अनियमित दिनचर्या और गलत खान-पान के कारण कब्ज की समस्या हो जाती है. भले ही समस्या कितनी ही छोटी क्यों न हो उसका इलाज करना बहुत आवश्यक होता है नहीं तो उसके साथ अन्य रोग होने का खतरा होता है.

कब्ज से छुटकारा पाने के लिए भीगी किशमिश का सेवन कर सकते है.किशमिश में फाइबर की उच्च मात्रा पायी जाती है जो भीगी हुई किशमिश को खाने से कब्ज की समस्या दूर हो जाती है.

(और पढ़ें – सुबह उठते ही पेट साफ होने के उपाय – Pet Saaf Karne Ke Gharelu Upay)

4. भीगी किशमिश खाने के फायदे वजन बढ़ाने में

जब शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है तो शरीर दुबला-पतला होने लगता है.जिस प्रकार मोटापे से कई लोग परेशान है ठीक उसी प्रकार से दुबले-पतले शरीर वाले व्यक्ति मानशिक तनाव और शर्मिन्दगी महसूस करते है.

वजन नियंत्रण करने में किशमिश का इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके लिए 8-10 किशमिश को पानी में भिगोकर रातभर के लिए रख दें. सुबह खाली पेट भीगी किशमिश का सेवन करने से आपका वजन बढ़ना शुरू हो जाएगा.

(और पढ़ें – मोटा होने के घरेलू उपाय – Mota Hone Ka Tarika)

5. मधुमेह में मदद करती है किशमिश

आजकल शुगर रोगियों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है.मधुमेह चयापचय संबंधी बीमारियों में से एक बीमारी है जिसमें लंबे समय रोगी के शरीर में उच्च रक्त शर्करा का स्तर होता है. मधुमेह रोग होने पर पीड़ित को कई समस्याएं होने लगती है जैसे बार-बार पेशाब आना, प्यास लगना और अत्यधिक भूख लगना.शुगर को नियंत्रित करने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी होता है अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना.

किशमिश का सेवन करने से मधुमेह को नियंत्रित किया जा सकता है. आपको बता दें कि किशमिश का ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है, जिस वजह से इंसुलिन रिस्पांस को बेहतर करने में मदद करता है. और इससे शुगर नियंत्रित रहता है.

(और पढ़ें – शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय – Sugar Kam Karne Ke Upay)

6. भीगी किशमिश के फायदे हड्डियों को रखे मजबूत

हड्डी शरीर का सबसे महत्‍वपूर्ण अंग होता है. जितनी ज्यादा आपके शरीर की हड्डियाँ मजबूत रहेंगी आप उतने ही ज्‍यादा  फिट और हेल्दी रहेंगे. लेकिन आजकल देखा गया है गलत खानपान और अनियमित दिनचर्या के कारण कम उम्र में लोगो की हड्डियाँ कमजोर होने लगती है. इस स्थित को ऑस्टियोपोरोसिस कहा जाता है.

हड्डियों  को मजबूत बनाने के लिए किशमिश का सेवन किया जा सकता है. किशमिश में कैल्सियम की भरपूर मात्रा पायी जाती है. भीगी किशमिश का सेवन करने से हमारे शरीर को पर्याप्त मात्रा में कैल्सियम की मात्रा मिलती है जो हड्डियाँ मजबूत बनाने में लाभकारी होता है.

7. उच्च रक्तचाप में किसमिस के फायदे

उच्च रक्तचाप को हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर के नाम से भी जाना जाता है. सामान्य स्थित में मनुष्य के शरीर रक्त का प्रवाह 120/80 से नीचे रहता है. लेकिन जैसे ही ब्लड प्रेशर इससे अधिक होता है, तो हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होने लगती है.उच्च रक्तचाप एक गंभीर समस्या है इसके कारण गुर्दे, धमनियों,मस्तिष्क की रक्त वाहिकाओं को कमजोर और हृदय नुकसान पंहुचा सकता है. इसलिए समय रहते इसका तुरंत इलाज करना चाहिए.

उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए किशमिश का इस्तेमाल किया जा सकता है. किशमिश में पोटेशियम की प्रचुर मात्रा पायी जाती है. पोटेशियम रक्त वाहिकाओ की दीवारों में तनाव को कम करने सहायता प्रदान करता है जिससे ब्लड प्रेशर कम होता है.

8. मुंह की दुर्गन्ध दूर करने में लाभकारी है किशमिश

यदि दांतों की ठीक तरह से सफाई न की जाए तो मुंह से दुर्गन्ध आने लगती है. मुंह में दुर्गन्ध आने के कारण व्यक्ति केवल स्वयं परेशान नहीं रहता बल्कि अपने समीप वाले व्यक्ति को भी परेशान करता है.यदि आप के मुंह से दुर्गन्ध आती है और इससे छुटकारा पाना चाहते है तो किशमिश का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए आप किशमिश को रोजाना चबा चबा कर खाने से मुंह से मुंह से आने वाली दुर्गन्ध दूर हो जायेगी.

9. बड़े हुए अंडकोष के लिए करें किशमिश का उपयोग

अंडकोष पुरुषों में पायी जाने वाली एक थैली है. इस थैली के अंदर दो अंडकोष होते हैं.अंडकोष की समस्या को हाइड्रोसील का जाता है.इस रोग के कारण रोगी के अण्डकोषों में अत्यधिक पानी भर जाता है जिससे पीड़ित के अण्डकोष में सूजन आ जाती हैं.यह समस्या के कई कारण हो सकते हैं जैसे चोट लगना,सूजन आना, वंशानुगत, जन्मजात या अन्य कारण हो सकते हैं. इस समस्या से छुटकारा यदि आप इस समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो रोजाना किशमिश का सेवन शुरू कर सकते हैं.

10. बालों के लिए फायदेमंद है किशमिश

उम्र बढ़ने के साथ-साथ बालों का झड़ना एक आम समस्या है लेकिन यदि कम उम्र में बाल गिर झड रहे है तो यह चिंता का विषय है और इसका जल्द से जल्द इलाज करना बहुत आवश्यक होता है. आजकल ज्यादातर लोग अनियमित जीवनशैली और गलत खान-पान के आदी हो गए है और इसका सीधा असर बालों पर पड़ता है. ऊपर से प्रदूषण और तरह तरह के केमिकल युक्त प्रोडक्ट लगाने से कम उम्र में बाल सफ़ेद और झड़ने लगते हैं.

झड़ते हुए बालो को रोकने के लिए किशमिश का इस्तेमाल कर सकते हैं.किशमिश में एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं, जो फ्री रेडिकल्स के प्रभाव को कम करके बालो की जड़े मजबूत करता है, जिससे बाल गिरने की समस्या दूर हो जाती है.

(और पढ़ें – बाल उगाने का तरीका – Jhadte Balon Ka Ilaj)

11. बुखार के लिए किशमिश के फायदे

किसी भी वायरस संक्रमण की वजह बुखार आ जाता है. और यह खासकर मौसम बदलने के कारण होती है तब तापमान के उतार-चढ़ाव आता है.बुखार आने से हमारे शरीर रोग प्रतिरोधक क्षमता को कमजोर पड़ जाती है, जिससे शरीर में अन्य बीमारियाँ होने का खतरा बढ़ जाता है. इसलिए समय पर सही इलाज करना बहुत आवश्यक होता है नहीं तो रोगी की जान भी जा सकती है.

किशमिश का सेवन करने से बुखार की समस्या से राहत मिल सकती है.किशमिश में एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं जो बुखार को बढ़ावा देने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करता है.

12. त्वचा के लिए किसमिस के फायदे

सुन्दर और निखरी त्वचा हर किसी को आकर्षित करती है. लोग निखरी त्वचा पाने के लिए तरह-तरह के क्रीम-पाउडर का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन ऐसा करने से उनकी त्वचा में सूखापन आ जाता है.संतुलित आहार, नियमित जीवनशैली, अपनाकर स्वस्थ शरीर और निखरी त्वचा पाया जा सकता है.त्वचा की ख़ूबसूरती बढाने में किशमिश बहुत लाभकारी होता है.

(और पढ़ें – चेहरा साफ करने के उपाय – Gora Hone Ke Gharelu Nuskhe)

13. यौन शक्ति बढ़ाने में करने किशमिश का प्रयोग

यौन शक्ति संभोग के कार्य को बेहतर बनाने में मदद करती है.संभोग करने के लिए यौन उत्तेजना और कामेच्छा का होना बहुत जरुरी होता है. यदि शादी शुदा जोड़ो में यौन शक्ति में कमी आ जाए तो उनके वैवाहिक जीवन में मनमुटाव होने लगता है.यौन शक्ति बढाने के लिए किशमिश का सेवन किया जा सकता है.किशमिश में बोरॉन नामक एक मिनरल मौजूद होता है जो महिलाओं और पुरुषों, दोनों में यौन संबंधी हॉर्मोन को बढ़ाने में मदद करता है.

14. ऊर्जा बढ़ाने के लिए करें किशमिश का सेवन

आपके शरीर ऊर्जा कम होने के कई कारण हो सकते है जैसे शरीर में पोषक तत्वों की कमी, ऑफिस में घंटों काम या जिम में अधिक व्यायाम करने से आपका शरीर थक जाता है. किशमिश का सेवन करने से आपका शरीर दिन भर ऊर्जावान बना रहता है. किशमिश को कार्बोहाइड्रेट का एक प्रमुख स्रोत माना जाता है. यह व्यायाम के दौरान ब्लड ग्लूकोज का स्तर बनाए रखने में मदद करता है, जिससे शरीर में ऊर्जा का प्रवाह निरंतर बना रहता है.

15. कैंसर के इलाज में किशमिश के फायदे

कैसर एक जानलेवा बीमारी है जिसका इलाज अभी तक नहीं मिला. यदि शुरुआती दौर में कैंसर के लक्षण मिल जाते हैं तो उसका इलाज हो जाता है वर्ना यदि आखरी स्टेज में कैंसर का इलाज होना असंभव माना जाता है.किशमिश का इस्तेमाल कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचाने में किया जा सकता है.किशमिश के मेथनॉल एक्सट्रैक्ट में एंटी रेडिकल और कैंसर प्रिवेंटिव मौजूद होते हैं, कैंसर के प्रभाव को कुछ हद तक कम करने में मदद करते हैं.

किशमिश का उपयोग – Uses of Raisins in Hindi

किशमिश का उपयोग अपने दैनिक जीवन में करने से कई स्वस्थवर्धक लाभ मिलते हैं. अब जानते हैं कि आप किसमिश का इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं.

  1. किशमिश को पानी में भिगोकर सुबह नाश्ते के रूप में सेवन कर सकते हैं.
  2. किशमिश को पीनट बटर व फ्रूट सलाद मिलाकर खा सकते हैं.
  3. खीर, लड्डू और अन्य पकवान में आप किशमिश डालकर खा सकते हैं.
  4. सूप में किशमिश डालकर सेवन कर सकते हैं.
  5. किशमिश को सीधे तौर पर खा सकते हैं.

किशमिश के पौष्टिक तत्व – Nutritional Value of Raisins in Hindi

किशमिश में कई प्रकार के पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं जैसे आयरन, कैल्शियम, मैग्नेशियम, पोटैशियम, फाइबर, प्रोटीन, सोडियम, विटामिन  सिलेनियम, कॉपर, जिंक इत्यादि. अब टेबल के माध्यम से जानते हैं कि किशमिश में कौन-कौन से पोषक तत्त्व और कितनी मात्रा में पाए जाते हैं.

पोषक तत्व पोषक तत्वों की मात्रा
प्रोटीन 3.07 gm
सिलेनियम 0.6 µg
कैल्शियम 50 mg
फास्फोरस 101 mg
कार्बोहाइड्रेट 79.18 gm
राइबोफ्लेविन 0.125 mg
कॉपर 0.318 mg
मैग्नीशियम 32 mg
जिंक 0.22 mg
विटामिन-सी  2.3 mg
आयरन 1.88 mg
फाइबर 3.7 gm
विटामिन-बी 6 0.174 mg
नियासिन  0.776 mg
फोलेट 5 µg

किशमिश के नुकसान – Side Effects of Raisins in Hindi

अब जानते है किशमिश का अत्यधिक सेवन करने से कौन-कौन सी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है

  1. किशमिश का ज्यादा मात्रा में सेवन करने से गैस की समस्या उत्पन्न हो सकती है.
  2. किशमिश में कैलोरी के भरपूर मात्रा पायी जाती है इसलिए रोजाना अधिक मात्रा में किशमिश खाने से आपका वजन बढ़ सकता है.
  3. शुगर रोगियों को किशमिश का ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए या सेवन करने से पहले किसी डॉक्टर की सलाह जरुर लेनी चाहिए.

FAQs -Raisins in Hindi

दूध में किशमिश खाने के फायदे क्या हैं?

दूध में किशमिश खाने से शादीशुदा पुरुषों के लिए काफी लाभदायक साबित होता है. दूध और किशमिश का एक साथ सेवन करने से यौन शक्ति में बढ़ोत्तरी होती है इसके साथ ही कई स्वास्थ्य संबंधी लाभ होते हैं

किशमिश की तासीर क्या होती है?

किशमिश की तासीर भी गर्म होती है. लेकिन, भीगे हुए किशमिश को पानी या दूध के साथ इस्तेमाल करने से तासीर ठंडी हो जाती है.

रोज कितनी किशमिश खाने चाहिए?

सामान्य तौर पर एक दिन में 50-100 ग्राम किशमिश का सेवन किया जा सकता है.

किशमिश कितने रुपए किलो है?

किशमिश की कीमत लगभग 200 से 230 रुपये प्रति किलोग्राम होती है.

सुबह खाली पेट किशमिश खाने के फायदे क्या क्या हैं?

सुबह खाली पेट किशमिश खाने पेट संबंधी सभी बीमारियाँ दूर हो जाती है जैसे गैस, कब्ज,

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है आपको यह पोस्ट सुबह खाली पेट किशमिश खाने के फायदे (kismis khane ke fayde) जरुर पसंद आयी होगी. यदि आपके मन में काजू किशमिश से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव हैं तो नीचे कमेंट कर सकते है.इसके अलावा इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर करने जिससे अन्य लोगो को दूध में किशमिश खाने के फायदे के बारे में सही जानकारी मिलेगी.

अन्य पढ़ें –

About Vijay Singraul

नमस्कार दोस्तों, मैं HindiMePost का Chief Author और Founder हूँ. मुझे Blogging और Technology से जुडी जानकारियां पढने और दूसरों के साथ शेयर करने में अच्छा लगता है. आप भी इस ब्लॉग से जुड़े और रोजाना कुछ नया सीखें.
Instagram

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *