थायराइड का रामबाण इलाज | Thyroid Kam Karne Ke Upay

थायराइड का रामबाण इलाज – हमारे गले में एक ग्रंथि होती है जिसे थायरॉइड ग्रन्थि कहा जाता है। यह ग्रंथि थायोक्सिन हार्मोन निर्माण का में सहायक होती हैं। और शरीर के मेटाबॉलिज्म को सुधार करने मदद करती है।

लेकिन जब थायराइड ग्रंथि जरूरत से अधिक या कम हार्मोन का निर्माण करने लगती है, तो शरीर को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। आमतौर पर पुरूषों की अपेक्षा महिलाओं में थायराइड की समस्या अधिक देखने को मिलती हैं। आज के इस पोस्ट में हम थायराइड के कारण, लक्षण और थायराइड का रामबाण इलाज और घरेलू उपचार के बारे में भी विस्तार से जानेगे।

थायराइड क्या है? – What is Thyroid in Hindi

thyroid kam karne ke upay

थायराइड गले में पाए जाने वाली एक ग्रंथि होती है जो तितली के आकार के सामान होती है। यह ग्रंथि आपके द्वारा किये गए भोजन को ऊर्जा में बदलने का काम करती है। इसके अलावा थायराइड ग्रंथि ट्राईआयोडोथायरोनिन (टी3) और थायरोक्सिन (टी4) नामक दो हार्मोन बनाती है। इन हार्मोंस का सीधा असर स्वसन नली, हृदय , मांसपेशियां, पाचन क्रिया और शरीर के तापमान पर पड़ता है।

थायरॉइड ग्रन्थि में गड़बड़ी होने के कारण शरीर में कई कई समस्याएं होने लगती है जैसे जन कम या ज्यादा होने लगता है और सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। थायराइड ग्रंथि हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंगो में से एक है। इसलिए इसको संतुलित बनाने में हमारी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए।

थायराइड के प्रकार – Types of Thyroid in Hindi

थायराइड मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं –

1.) हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyroidism) –  जब थायराइड ग्रंथि सामान्य से कम मात्रा में हार्मोंस का निर्माण करती है।

2.) हाइपरथायरॉइडज्म (Hyperthyroidism) – जब थायराइड ग्रंथि समान्य से अधिक मात्रा में हार्मोंस का निर्माण करती है।

थायराइड के कारण – Causes of Thyroid in Hindi

थायरॉइड होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे –

  1. शरीर में आयोडीन की मात्रा कम या ज्यादा होने पर थायराइड रोग हो सकता है।
  2. अत्यधिक तनाव लेने से आपका थायराइड फंक्शन बिगड़ सकता है।
  3. थायरॉइड रोग अनुवांशिक के कारण होता है। अगर आपके पूर्वज में ये बीमारी थी तो आपको भी हो सकती है।
  4. गर्भावस्था के दौरान शरीर में कई प्रकार के हार्मोन बनते हैं जिसकी वजह से थायरॉइड रोग हो सकता है।
  5. धूम्रपान स्वस्थ के लिए बहुत हानिकर है और यह थायरॉइड रोग होने का एक कारण भी हो सकता है।

थायराइड के लक्षण – Symptoms of Thyroid in Hindi

आप आपके गले मे थायराइड की समस्या है तो आप निम्न लक्षणों से पहचान कर सकते हैं जैसे-

  1. पीरियड्स में बदलाव आना। आपके पीरियड्स में बहुत ज्यादा गैप होना।
  2. थकान और सुस्ती महसूस होना।
  3. अधिक वजन बढ़ना या कम होना थायराइड का एक लक्षण हैं।
  4. सांस फूलना और दिल की धड़कन तेज होना।
  5. गर्मी लगना और अधिक मात्रा में पसीना आना।
  6. नींद की कमी होना।
  7. मांसपेशियां कमजोर और शरीर में दर्द होना।

थायराइड का रामबाण इलाज – Thyroid Ko Control Karne Ka Upay

आज के समय में बीमारी उम्र देखकर नहीं आती है थायराइड रोग भी एक रोग है जो किसी भी उम्र के लोगो को हो सकता है। अगर थायराइड की समस्या से जूझ रहे हैं तो घबराने की जरूरत नहीं है, बल्कि अपनी आदतों में सुधार करके और कुछ घरेलु नुख्से अपनाकर इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। तो चलिए जानते हैं थायराइड का रामबाण इलाज क्या है।

1.) थायराइड कम करने का घरेलू उपाय है हरी धनिया

हरी धनिया आपको आसानी से हर जगह मिल जाती है। धनिया का इस्तेमाल खाने के साथ कई बीमारियों के उपचार में भी किया जाता है। थायराइड को करें कंट्रोल के लिए भी हरी धनिया का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए एक गिलास पानी में हरी धनिया को पीसकर घोल बनाकर पिएं।

2.) थायराइड का रामबाण इलाज है अश्वगंधा

अश्वगंधा एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसका इस्तेमाल करने से शरीर को अनेकों लाभ मिलते है। थायराइड का रामबाण इलाज करने के लिए ग्रीन टी में अश्वगंधा का चूर्ण मिलाकर पियें। इसके अलावा एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण को गुनगुने दूध के साथ रात में सोने से पहले पियें।

3.) थायराइड खत्म करने का घरेलू नुख्सा है तुलसी

भारतीय संस्कृत में तुलसी के पेड़ का जितना महत्व है उतना ही आयुर्वेद में भी है। तुलसी के औषधीय गुण हमारे शरीर को कई रोगों से बचाता है साथ थायराइड को नियंत्रित करने में असरदार होता है। इसके लिए दो चम्मच तुलसी के पत्तों का रस और आधा चम्मच ऐलोवेरा जूस मिलाकर सेवन करें।

4.) थायराइड का रामबाण इलाज है त्रिफला चूर्ण

आमतौर पर लोग त्रिफला को चूर्ण का इस्तेमाल कब्ज को दूर करने के लिए करते हैं। थायराइड का रामबाण इलाज करने के लिए भी त्रिफला चूर्ण का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए रोजान एक चम्मच त्रिफला चूर्ण का सेवन करें।

5.) थायराइड का आयुर्वेदिक इलाज है मुलेठी

मुलेठी एक गुणकारी आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है। मुलेठी के औषधीय गुण थायराइड को कंट्रोल करने में कारगर माने जाते हैं। थायराइड के रोगी मुलेठी के पाउडर को गुनगुने पानी में मिलाकर पी सकते हैं।

6.) थायराइड का रामबाण इलाज है अलसी

थायराइड की समस्या से निजात दिलाने में अलसी बहुत प्रभावशाली माना जाता है। अगर आप थायराइड की समस्या से जूझ रहे हैं तो रोजाना 1 चम्मच भूनी हुई अलसी का सेवन करें। इसके अलावा एक गिलास पानी में एक चम्मच अलसी डालकर 8 – 10 घंटों के रख दें। इसके बाद अलसी के बीजों सहित इस पानी को 3 से 4 बार गर्म करे। इसके बाद छानकर इस गुनगुना पानी को पियें।

7.) थायराइड को कैसे दूर करें नारियल तेल से

नारियल का तेल में कई प्रकार के पोषक तत्व मौजूद होते हैं। जो त्वचा संबंधित बीमारियों को दूर करने में कारगर माने जाते हैं साथ ही थायराइड नियंत्रण में सक्षम होता है। इसलिए थायरॉइड के रोगियों को अपने आहार में नारियल तेल का इस्तेमाल करना चाहिए।

8.) थायराइड का रामबाण इलाज है काली मिर्च

ठंड से बचने और गले की बीमारियों को दूर भगाने में काली मिर्च बहुत लाभदायक होता है। बढ़े हुए थायराइड को कम करने के लिए आप नियमित रूप से अपने आहार में थोड़ी मात्रा में काली मिर्च का सेवन कर सकते हैं।

9.) थायराइड खत्म करने का उपाय है लौकी

लौकी का सेवन थायराइड के मरीज़ों के लिए सबसे अच्छा विलल्प माना जाता है। खाली पेट लौकी का जूस पीने से थायराइड नियंत्रित रहता है। लौकी आपके शरीर को ठंडा रखता है और स्ट्रेस, डायबिटीज को भी नियंत्रित रखने में मदद करता है।

10.) थायराइड का रामबाण इलाज है आंवला

आंवलें को विटामिन C का मुख्य श्रोत माना जाता है। अगर आप थायराइड की समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो जाना सुबह खाली पेट एलोवेरा और आंवला जूस का सेवन करें। आंवला आपके शरीर के थायराइड हार्मोन के उत्पादन को नियंत्रित करने में मददगार होता है।

अन्य पढ़ें –

Rate this post

2 thoughts on “थायराइड का रामबाण इलाज | Thyroid Kam Karne Ke Upay”

Leave a Comment