माउस क्या है और इसके प्रकार?

हम में से अधिकतर लोग यह नहीं जानते माउस क्या है (What is Mouse in Hindi) और कितने प्रकार के होते है? कंप्यूटर में जैसे दूसरे डिवाइस Keyboard, Monitor, Printer इस्तेमाल किये जाते है, ठीक उसी प्रकार से कंप्यूटर स्क्रीन को कण्ट्रोल करने के लिए माउस का इस्तेमाल किया जाता है.

कंप्यूटर में माउस की जरुरत सबसे अहम् माना जाता है क्योंकि कंप्यूटर स्क्रीन में होने वाले सभी गतिविधियों माउस से कण्ट्रोल करते है. आज के इस पोस्ट में हम इसी बार बात करेंगे कि माउस क्या है (What is Mouse in Hindi) और एक अच्छा माउस खरीदने के लिए कौन- कौन सी बातो का ध्यान रखना का चाहिए.

माउस क्या है (What is Mouse in Hindi)

what is mouse in computer
माउस प्रमुख इनपुट डिवाइस में से एक है और इसे पोइंटिंग डिवाइस भी कहा जाता है. माउस का इस्तेमाल कंप्यूटर के साथ कम्युनिकेशन करने के लिए किया जाता है जैसे कंप्यूटर स्क्रीन पर Icon को Select करना, उन्हें खोलना , बंद करना इत्यादि. माउस की मदद से यूजर कंप्यूटर स्क्रीन पर कही भी पहुच सकता है.

माउस में मुख्य रूप से तीन बटन होते है जिनकी मदद से कंप्यूटर को निर्देश दिये जाते है. Pointer Move करने के लिए माउस को हिलाना पड़ता है. माउस की बीच वाली (गोल बटन) की सहायता से स्क्रीन को Sscroll (ऊपर- नीचे) कर सकते है.

माउस के प्रकार (Types of Mouse in Hindi)

माउस को मुख्य रूप से तीन भागो में बाटा गया है –

(1) मैकेनिकल माउस (Mechanical Mouse)

ऐसे माउस जिनके निचले हिस्से में रबर की एक रबर की गेंद लगी रहती है मैकेनिकल माउस (Mechanical Mouse) कहलाते है. जब माउस को इधर- उधर घुमाते है तो साथ में अन्दर गेंद भी घूमती है. गेंद के घूमने से कंप्यूटर को कार्य करने के लिए निर्देश प्राप्त होते है.

(2)प्रकाशीय माउस (Optical Mouse)

इसमें Mouse Position और movement को Track करने के लिए Optical इलेक्ट्रॉनिक का प्रयोग किया जाता है. इसमें प्रकाश की एक किरण इसके निचले परत से उत्पन्न होती है और इसी के द्वारा Object की दूरी, तथा गति का पता लगता है . ये कम खर्चीले माउस और ज्यादा भरोषेमंद होते है.

(3)तार रहित माउस (Cordless/ Wireless Mouse)

ऐसे माउस जिनमे कंप्यूटर से जोड़ने के लिए तार नहीं लगाये जाते बल्कि इसके जगह Radio frequency टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है Wireless Mouse कहलाते है. इसमें ट्रांसमीटर तथा रिसीवर का खेल रहता है. ट्रांसमीटर जो माउस पर लगाया जाता है, जिसका काम इलेक्ट्रोमैग्नेटिक सिग्नल (Electromagnetic) Signal) के रूप में माउस की गतिविधियों को भेजना. रिसीवर जो कंप्यूटर में लगाया जाता है जिसका काम है इलेक्ट्रोमैग्नेटिक सिग्नल (Electromagnetic) Signal) प्राप्त करना.

माउस की उत्त्पत्ति कब हुई? (History of Computer Mouse)

हिंदी में माउस को चूहा कहा जाता है. इसका कारण है कि इसमें दो बटन जो आँख को दर्शाता है और एक तार लगी होती है,जिसे पूछ कह सकते है, कुल मिलाकर चूहा कहना गलत नहीं है.

माउस की खोज सन 1960 में डगलस एंजेलबर्ट ने किया था. जिस समय इन्होने माउस की खोज कि उस समय के कंप्यूटर एक कमरे के आकार के बराबर हुआ करते थे. शुरआती दौर में माउस को लकड़ी से बनाया था और इसका नाम ‘बग’ दिया गया.

साल 1983 में पहली बार मल्टीनेशनल कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने माउस को बाजार में लाया. इसके बाद साल 1991 में लॉजिटेक कंपनी ने रेडियो फ्रीक्वेंसी ट्रांसमिशन का इस्तेमाल करके दुनिया का प्रथम ऑप्टिकल माउस लांच किया. माउस के गति को बढाने के लिए लॉजिटेक कंपनी साल 2004 में लेजर माउस को लांच किया, जिसकी स्पीड ऑप्टिकल माउस मुकाबले 10 गुना ज्यादा थी.

ये भी पढ़े-
कंप्यूटर क्या है – What is Computer in Hindi
मदरबोर्ड क्या है- What is Motherboard in Hindi
कीबोर्ड क्या है- What is Keyboard in Hindi

माउस की संरचना (Design of Mouse in Hindi)

अब जानते है एक साधारण माउस की संरचना के बारे में जिसका इस्तेमाल बहुत होता है-

बायाँ बटन (Left Button) – माउस का left button सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है जैसे किसी प्रोग्राम या फाइल्स को खोलने के लिए left button डबल क्लिक करते है.

दायाँ बटन (Right Button) – माउस के Right button का इस्तेमाल Special Operation करने के लिए किया जाता है जैसे किसी फाइल को Copy, Cut, या share करना है.

बीच की बटन (Mouse Wheel) – इससे Center button या Wheel कहा जाता है, जिसका इस्तेमाल पेज को Scroll Up और Scroll Down करने के लिए किया जाता है.

Wire या Wireless Receiver – माउस को कंप्यूटर से जोड़ने के लिए एक तार होती है जिसमे USB Port लगा रहता है. बिना तार के माउस में अलग से USB Port मिलता है जिसे कंप्यूटर में लगाकर इस्तेमाल कर सकते है.

मै उम्मीद करता हूँ आपको यह पोस्ट माउस क्या है (What is Mouse in Hindi) और कितने प्रकार के होते है? अच्छे से समझ में आ गया होगा. यदि आपके मन में इस पोस्ट से जुड़े को सवाल है तो निचे कमेन्ट कर पूछ सकते है. इस पोस्ट को सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट जैसे Facebook, Twitter पर भी शेयर करने जिसे और लोगो तक माउस की सही जानकारी पहुचेगी.

About Vijay Singraul

नमस्कार दोस्तों, मैं HindiMePost का Chief Author और Founder हूँ | मुझे Blogging और Technology से जुडी जानकारियां पढने और दूसरों के साथ शेयर करने में अच्छा लगता है| आप भी इस ब्लॉग से जुड़े और रोजाना कुछ नया सीखें.

View all posts by Vijay Singraul →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *