सैनिटाइजर क्या होता है? | Sanitizer in Hindi

क्या आप जानते हैं सैनिटाइजर क्या है What is sanitizer in Hindi और इसका इस्तेमाल कैसे करें? जब से कोरोना महामारी आई है हमें सरकार कुछ निर्देशों का पालन करने के लिए बोल रही है उनमे से पहला मास्क, दूसरा हाथ धोना या हैण्ड सैनिटाइज करना. भारत में अब भी लोग sanitizer के मुकाबले साबुन से हाथ धोना ज्यादा पसंद करते है. जबकि विदेशो में लोग Hand sanitizer ज्यादा इस्तेमाल करते हैं.

शुरूआती दौर में जब कोरोना भारत में आया था (March 2020) तब मास्क और सैनिटाइजर आउट ऑफ स्टॉक हो गया था. इसके अलावा जिन दुकानों पर मास्क और सैनिटाइजर उपलब्ध थे वो इसका कालाबाजारी कर रहे थे, यानी दुगने- तीगने मूल्य पर बेंच रहे थे. आज भी ऐसे बहुत लोग हैं जो जानना चाहते हैं कि सैनिटाइजर क्या होता है (Sanitizer meaning in Hindi) और इसका सही तरीके से इस्तेमाल कैसे करें. आज का पोस्ट हमारा सैनिटाइजर पर है,जिसमे हम सैनिटाइजर से जुड़े हर पहलु को जानेगे.

सैनिटाइजर क्या है –  Hand Sanitizer Meaning in Hindi

sanitizer meaning in hindi
Sanitizer in Hindi

सैनिटाइजर शब्द अंग्रेजी भाषा के Sanitise से लिया गया है जिसका हिंदी भाषा में अर्थ प्रक्षालक होता है. आसान भाषा में समझे तो Hand sanitizer एक ऐसा साधन है जिससे हांथो को साफ़ किया जाता है. इसमें ख़ास बात यह होती है बिना पानी के Hand sanitizer की मदद से हाथ स्वच्छ कर सकते है. जबकि साबुन से हाथ धोने के लिए हमें पानी की आवशकता पडती है.

सैनिटाइजर दुकानों में अलग अलग प्रकार के मिल जायेंगे जैसे जेल, फोम या फिर टिश्यू इत्यादि के रूप में, पूरी दुनिया में  सैनिटाइजर को  बनाने वाले कंपनियों की संख्या 100 से भी ज्यादा है. लेकिन यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि जिन कंपनियों के सैनिटाइजर में 60 प्रतिशत से ज्यादा एल्कोहल या मदिरा की मात्रा होती है. वो सैनिटाइजर हाथ के कीटाणु ख़त्म करने में ज्यादा सक्षम होते हैं. इसलिए जब भी बाजार से कोई सैनिटाइजर खरीदें तो यह चेक करले कि उसमें एल्कोहल की मात्रा कितनी है.

सैनिटाइजर का इस्तेमाल कैसे करें – How to Use of Sanitizer in Hindi

आजकल हाथों को स्वच्छ रखने के लिए हैंड सैनिटाइजर का अधिक इस्तेमाल किया जा रहा है. हैंड सैनिटाइजर में कीटाणुओं और बैक्टीरिया को हमारे हाथों से निकलने की क्षमता होती है, इसके अलावा सैनिटाइजर से हाथ धोने के बाद हाथों से भीनी-भीनी सी महक भी आती है. कुछ लोगो को नहीं पता की सैनिटाइजर का इस्तेमाल कैसे करें. तो आइए, जानते हैं कि हैंड सैनिटाइजर का इस्‍तेमाल हाथ धोने के लिए कैसे करें.

  1. सबसे पहले हथेली पर थोड़ी एक चौथाई चम्मच की मात्रा में हैण्ड सैनिटाइजर डालें.
  2. दोनों हाथों को रगड़ते हुए पिछले हिस्से और उँगलियों को कवर करें.
  3. हाथ को तब तक रगड़े, जब तक सूख न जाए.
  4. यदि आपके हाथ गंदे हैं तो हैंड-सैनिटाइजर का इस्तेमाल न करें. पहले इसे साफ़ पानी से धोएं और फिर हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें.

सही हैंड सैनिटाइजर कैसे चुने – How to Select Right Hand Sanitizer in Hindi

हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करने  के लिए आधिकारिक तौर पर सरकार द्वारा लोगों को सलाह दी जा रही है, वहीं, डॉक्टर्स भी लोगों को हैंड सैनिटाइजर का उपयोग करने की अपील कर रहे हैं.लेकिन, आपके लिए सही हैंड सैनिटाइजर का कौन सा है इस बात की जानकारी होना बहुत ज़रूरी है. सही सैनिटाइजर का पता लगाने के लिए कुछ बातों का ध्यान रख कर आप समझ सकते हैं कि आपके लिए एक सही हैंड सैनिटाइजर कौन सा है.

1.अल्कोहल की मात्रा चेक करें-

जिस सैनिटाइजर में अल्होकल की मात्र 60 प्रतिशत से अधिक हो, वह वह कीटाणुओं को खत्म करने में ज्यादा प्रभावशील होता है. कोरोना वायरस की वजह से Hand Sanitizer की मांग बहुत तेज़ी से बढ़ी है, ऐसे में अच्छा और कारगर हैंड सैनिटाइजर मिलना थोड़ी कठिन है. लेकिन, जब भी आप बाजार से कोई सैनिटाइजर खरीदें, तो बोतल पर लिखी जानकारियां जरुर पढ़ लें. वैसे सभी हैंड सैनिटाइजर की बोतल पर लिखा होता है कि वह 99% कीटाणुओं को मारने में सक्षम है, फिर भी ऐसा सैनिटाइजर खरीदें जिसमे 60 प्रतिशत से अधिक अल्कोहल की मात्रा उपस्थित हो.

2.खुशबू रहित हैंड सैनिटाइजर खरीदें-

कुछ हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि ज्यादा खुशबूदार हैंड सैनिटाइज़र का इस्तेमाल करना सेहत के लिए ठीक नहीं है. क्योंकि,खुशबूदार हैंड सैनिटाइज़र में पैथालेट्स(phthalates) नामक कम्पाउंड्स का इस्तेमाल किया जाता है.  और ये कम्पाउंड्स भोजन के साथ मिक्स होकर हमारे शरीर में प्रवेश कर जाते हैं, जिससे शरीर को नुकसान पहुचता है. इसलिए हमें ऐसा सैनिटाइजर इस्तेमाल करना चाहिए जिसमें किसी प्रकार की महक ना आती हो यानि जो खुशबूदार न हो. ध्यान रखे कि खाना खाने से पहले हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करने की बजाय, साबुन से हाथ धोना चाहिए.

घर पर सैनिटाइजर कैसे बनायें – How to Make Hand Sanitizer at Home

भारत स्वास्थ्य मंत्रालय ने 13 मार्च 2020 को इसेंशल कमॉडिटीज ऑर्डर को पारित किया है जिसमे निर्देश दिया गया है कि बाजार में बिकने वाले हैंड सैनिटाइज़र की गुणवत्ता अच्छी होना चाहिए. कोरोना वायरस ख़त्म करने के लिए सैनिटाइजर में कम से कम 60 प्रतिशत एल्कोहल  मात्रा होना अनिवार्य है. यदि ऐसा सैनिटाइजर बाजार में नहीं मिल रहा है तो आप इसे अपने घर में भी बना सकते है.

कोरोना वायरस के आने के कारण लोग एडवांस में मास्क और हैण्ड सैनिटाइजर खरीदकर रख रहे है. जिस कारण से बाजार में आउट ऑफ़ स्टॉक देखने को मिल रहा है. ऐसे में यदि आप जानना चाहते है कि घर में सैनिटाइजर कैसे बनायें तो नीचे दिए गए सभी स्टेप को ध्यानपूर्वक पढ़े.

सैनिटाइजर बनाने के लिए आवश्यक सामग्री

घर पर बनाया गया Hand Sanitizer उतना ही कीटाणुनाषक होता है जितना आप मार्किट से खरीदकर लाते है. लेकिन इसको बनाने के लिए सही सामग्री का होना बहुत आवश्यक है.

  1. आपके पास आईसोप्रॉपिल एल्कोहल या रबिंग एल्कोहल है होना चाहिए जो आपको आसानी से किसी भी केमिकल और मेडिकल स्टोर में मिल जायेगा. आपने इस एल्कोहल को देखा भी होगा जब कोई डॉक्टर या नर्स जब किसी मरीज को इंजेक्शन लगाने से पहले एक तरल पदार्थ से त्वचा को साफ़ करते है, इसी तरल पदार्थ को  आईसोप्रॉपिल एल्कोहल या रबिंग एल्कोहल कहते हैं. इसलिए आपको यह दवाइयों की दुकान पर आसानी से मिल जायेगा.
  2. सैनिटाइजर बनाने के लिए आपके पास एलोवेरा जेल होना चाहिए.क्योंकि यह एल्कोहल को तुरंत सूख जाने या उड़ने से रोकता है. एलोवेरा जेल को आप बाजार से खरीद सकते हैं या घर में एलोवेरा के पौधा है तो उसे इस्तेमाल में ले सकते हैं.
  3. इसेंशल ऑयल या नींबू का रस का इस्तेमाल  सैनिटाइजर बनाने के लिए किया जाता है, क्योंकि इसमें एल्कोहल की महक को कम करने के क्षमता होती है.

घर पर सैनिटाइजर बनाने का तरीका

सैनिटाइजर बनाते वक्त ध्यान रखे कि एल्कोहल और एलोवेरा जेल का 2:1 अनुपात में होना चाहिए। इसका मतलब दो तिहाई हिस्सा एल्कोहल और एक तिहाई एलोवेरा जेल का होना आवश्यक है। ऐसा इसलिए जरुरी है ताकि इसमें एल्कोहल 60 प्रतिशत से अधिक हो सके तो इसे बनाने के लिए नीचे दिए गए स्टेप फॉलो करे

  1. सबसे पहले आपको एक कांच की साफ़ कटोरी लेना है जिसमे एल्कोहल और एलोवेरा जेल  2:1 अनुपात में डालना है यानी 2 हिस्सा एल्कोहल का और 1 हिस्सा एलोवेरा जेल का लेना है.
  2. अब इस मिश्रण में 7 से 10 बूँद अपनी पसंद का सुगन्धित तेल या फिर नीबू का रस डाले.
  3. इसके बाद इस मिश्रण को अच्छी तरह से मिक्स करे.
  4. अब इस मिश्रण को एक बोतल में  डाल लें जिसे अपने साथ कही भी ले जा सकते है.

सैनिटाइजर के नुकसान – Disadvantages of  Sanitizer in Hindi

इन दिनों हाथों को धोने के लिए साबुन की जगह Hand Sanitizer का उपयोग अधिक किया जा रहा है। Hand Sanitizer कीटाणुओं और बैक्टीरिया को हमारे हाथों निकालने में मदद करता है.लेकिन कुछ लोगों को बार-बार Hand Sanitizer से हाथ धोने की आदत सी हो रही है. ऐसे लोगों को हर छोटे-बड़े काम में हाथ लगाने के बाद लगता है कि उनके हाथ गंदे हो गए है और सिर्फ पानी से साफ नहीं हो सकते, ऐसे में वे लोग बार-बार हाथ साफ करने के लिए Hand Sanitizer का इस्तेमाल करते है.

लेकिन क्या आप जानते हैं कि Hand Sanitizer का ज्यादा इस्तेमाल करने से आपके स्वास्थ्य पर बुरा असर पहुंच सकता है. आइए, जानते हैं कि बार-बार हैंड सैनिटाइजर प्रयोग से करने से आपकी सेहत पर क्या- क्या बुरा प्रभाव पड़ सकता है-

  1. सैनिटाइजर में ट्राइक्लोसान नाम का एक केमिकल पदार्थ उपस्थित होता है. जब हैण्ड सैनिटाइजर लगाते है तो हाथ की त्वचा इसे सोख लेती है. हैण्ड सैनिटाइजर ज्यादा इस्तेमाल करने से यह केमिकल आपकी हाथ की त्वचा से हुते हुए स्क्त में मिल जाता हैं. रक्त में मिलने के कारण यह आपकी मांसपेशियों के ऑर्डिनेशन को क्षतिग्रस्त कर सकता है.
  2. सैनिटाइजर में विषैले पदार्थ और बेंजाल्कोनियम क्लोराइड मौजूद होते है, जो कीटाणुओं और बैक्टीरिया को हाथों से बाहर निकालने में मददगार होते है है, लेकिन यह हमारी त्वचा के लिए बहुत ख़राब होता है है. इससे त्वचा में जलन और खुजली की समस्याएं हो सकती हैं.
  3. हैंड सैनिटाइजर में खुशबू बनाने के लिए फैथलेट्स नामक रसायन का प्रयोग किया जाता है, इसकी मात्रा जिस Hand Sanitizer में अधिक होती है, वे हमारे शरीर के लिए हानिकारक होते हैं, इस प्रकार के तीव्र खुशबूदार सैनिटाइजर लीवर, किडनी, फेफड़े तथा प्रजनन तंत्र को प्रभावित कर सकते हैं.
  4. सैनिटाइजर में अल्कोहल की ज्यादा मात्रा होने के कारण बच्चों की सेहत पर इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता हैं. इसलिये ध्यान रहे कि खासकर सैनिटाइजर बच्चो के मुह में न लगे.
  5. सैनिटाइजर के ज्यादा इस्तेमाल से त्वचा सूखने लगती है.
  6. कई रिसर्च के दावा किया है की ज्यादा सैनिटाइजर के प्रयोग से बच्चों की इम्यूनिटी कम होती है.

FAQs – Sanitizer in Hindi

प्रश्न 1 – सैनिटाइजर क्या काम करता है?

उत्तर – सैनिटाइजर किसी भी सतह से वायरस, बैक्टीरिया, कीटाणु फंगस जैसी चीजों से ख़त्म कर देता है. यहां तक कि डीएन, आरएन जैसी बहुत बारीक चीजें भी आसानी से साफ़ हो जाती हैं.

प्रश्न 2 – बाजार में कितने तरह के सैनिटाइजर बिक रहे हैं?

उत्तर –  बाजार में दो प्रकार के सैनिटाइजर उपलब्ध हैं. अल्कोहल बेस्ड और अल्कोहल फ्री. अल्कोहल बेस्ड सैनिटाइजर्स  कोरोना वायरस ख़त्म करने में ज्यादा कारगर हैं.अल्कोहल फ्री सैनिटाइजर  कीटाणुओं को हटाने में सक्षम होते हैं.

प्रश्न 3 – दिन में कितनी बार सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना चाहिए?

उत्तर – यदि आप घर में हैं तो हैण्ड सैनिटाइजर के इस्तेमाल की आवश्यकता नहीं है. हाथ धुलने के लिए आप साबुन का इस्तेमाल करें.यदि बस, ट्रेन या किसी सार्वजनिक वाहन में सफ़र कर रहे हैं, वहाँ पर आप बार-बार हैंडल, शीट, या किसी व्यक्ति को छू रहे हैं. और आपके पास हाथ धुलने का कोई विकल्प नहीं है या तब हैण्ड सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर सकते हैं.

प्रश्न 4 – सैनिटाइजर का असर कितनी देर तक रहता है?

उत्तर – सैनिटाइजर का असर किसी भी सतह पर 3-4 चार मिनट तक ही रहता है. इसके बाद इसमें उपस्थित अल्कोहल उड़ जाता है.

प्रश्न 5 – बाजार में सैनिटाइजर की कीमत क्या है?

उत्तर – बाजार में अलग-अलग कीमत पर अलग-अलग सैनिटाइजर मिल रहे हैं. इनकी कीमत 50 रुपए से लेकर 500 रुपए तक है.  सैनिटाइजर ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों जगह उपलब्ध हैं, आप कही से भी खरीद सकते हैं.

मुझे उम्मीद है आपको यह पोस्ट सैनिटाइजर क्या होता है (Sanitizer meaning in Hindi) और घर पर सैनिटाइजर कैसे बनायें जरुर पसंद आया होगा. यदि आपके मन में सैनिटाइजर से जुड़े कोई सवाल या सुझाव है तो नीच कमेंट कर सकते है. इस कोरोनाकाल में सरकार के निर्देषो का पालन करें….. धन्यवाद.

Rate this post

Leave a Comment