C Language क्या है और कैसे सीखें?

यदि आप एक सॉफ्टवेर इंजिनियर बनना चाहते है तो आपको C Language क्या है (What is C Programming Language in Hindi) और इसकी विशेषतायें क्या क्या होती है पता होना चाहिए. इसमें कोडिंग सबसे महत्वपूर्ण पार्ट होता है. यदि C Programming की interview के बारे में बात करें तो theory questions के साथ coding part से भी पूछे जाते है. इसलिए आपको theory के साथ साथ Coding की भी जानकारी होनी चाहिए तभी प्रोग्रामिंग में सफल हो सकते है.

C Language को सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का जनक माना जाता है. इसका मतलब किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखने से पहले आपको C Language की जानकारी होना बहुत आवश्यक है. आज के इस पोस्ट में हम बात करेंगे कि C Language क्या है और इसे कैसे सीखें?

C Language क्या है – What is C Language in Hindi

what is c language in hindi
C एक Procedural Programming Language है जिसका इस्तेमाल सॉफ्टवेर बनाने में किया जाता है. यह एक Basic और Simple Programming Language है. यदि आपने C Language को बढियां तरीके से सीख लिया तो दूसरी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने में काफी आसानी होगी जैसे C++, Java, Python इत्यादि.

C Language की खोज सन 1972 में डेनिस रिचे (Dennis Ritchie) ने किया था. इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का कोडिंग लिखने से पहले आपके कंप्यूटर में Turbo C++ का सेटअप इनस्टॉल होना चाहिए. इस सॉफ्टवेर में C और C++ के प्रोग्राम आसानी से लिखकर Execute कर सकते है.यह सॉफ्टवेर एक प्रकार का अनुवादक (Translator) है जो Source Code को Object Code में बदलता है.

C Language की विशेषतायें (Features of C Programming Language in Hindi)

अब हम जानेंगे C Programming Language की कौन-कौन सी महत्वपूर्ण विशेषतायें हैं-

  • C Programming Language में बने सभी प्रोग्राम्स तेजी से Execute होते हैं.
  • C Language में दोनों लैंग्वेज (High Level Language और Low Level Language) के Concept विद्धमान हैं.
  • इस लैंग्वेज का इस्तेमाल दोनों प्रकार के सॉफ्टवेर (System Software और Application Software) बनाने के लिए किया जाता है.
  • C Program बहुत Portable होते है, इसका मतलब यह है कि इसे किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम में Run कर सकते है.
  • C एक Procedural Language होती है, इसका मतलब इसमें Predefined Instruction के एक लिस्ट सम्लित रहती है उसी Procedure के आधार पर कोडिंग की जाती है.
  • C Language को Assembly Language में लिखा गया है.

ये भी पढ़े-
Python क्या है- What is python in Hindi
Programming Language क्या है – Programming Language in Hindi
Java क्या है – What is Java in Hindi

C Language की कमियाँ – Limitations of C Programming Language

C Programming Language में कुछ कमियाँ है जो प्रोग्रामिंग करने के लिए बाधक बनती हैं.

  • No Run Time Type Checking- C Programming language में run time में किसी भी Variable types की checking नहीं होती है।
  • Does Not Support OOPS – यह OOPS (Object Oriented Programming ) के Concept को Support नहीं करती.
  • No Code Re-usability – यह Inheritance के Concept को Support नहीं करती, जिससे Code re usability नहीं होता.
  • No Exception Handling – इसमें Run Time programming के दौरान exceptions को Handle नहीं किया जा सकता.

First “Hello Program” of C Language

C Language में “Hello Program” सबसे Basic program होता है.

  • सबसे पहले Turbo C/C++ का Setup Download करें.
  • अब Setup को अपने कंप्यूटर में Normally Install करें.
  • अब Turbo C/C++ एप्लीकेशन को खोलें और उसमे “Hello Program” लिखें.
  • अब प्रोग्राम को Compile करने के बाद Run करें.
  • अब आपके सामने Black Screen खुल जायेगी जिसमे “Hello Program” लिखा रहेगा.

Source Code

#include 
 
int main()
{
  printf("Hello world!");
  return 0;
}

Output

Hello Program

Basic Concepts of C Programming Language

  • अब जानते है C Language में कौन- कौन से Basic Concepts इस्तेमाल होते है.
    Basic Syntax – C Language में इस्तेमाल होने वाले Basic Syntax जैसे Header, Body और Coding. इसमें प्रोग्राम उपर से नीचे की ओर execute होता है.
  • Variables –  Variables एक मेमोरी के जैसे काम करता है जो प्रोग्रामिंग में किसी वैल्यू को स्टोर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.
  • Data Types –  यह Variables और Functions के Types को दर्शाता है.
  • Operators –  यह एक Symbol होता है जो Compile को Mathematically Function और Logically Function के बारे में बताता है.
  • Loops  – यह एक प्रकार की प्रोग्रामिंग स्टेटमेंट है जिसका इस्तेमाल किसी लाइन को बार-बार Execute कराने के लिए किया जाता है.
  • Array –  इसका इस्तेमाल बहुत से Data Types को Single Array में store करने के लिए किया जाता है.
  • Pointers – इसका इस्तेमाल Variable का Address store करने के लिए किया जाता है.

मुझे उम्मीद है आपको यह पोस्ट C Language क्या है (What is C Language in Hindi) और इसके basic concepts जरुर पसंद आई होगी.  यदि आपको इस पोस्ट से कुछ सीखने को मिला हो तो इसे सोशल मीडिया पर भी शेयर करें जिससे और लोगो को C Programming Language के बारे में सही जानकारी मिलेगी.

About Vijay Singraul

नमस्कार दोस्तों, मैं HindiMePost का Chief Author और Founder हूँ | मुझे Blogging और Technology से जुडी जानकारियां पढने और दूसरों के साथ शेयर करने में अच्छा लगता है| आप भी इस ब्लॉग से जुड़े और रोजाना कुछ नया सीखें.

View all posts by Vijay Singraul →

2 Comments on “C Language क्या है और कैसे सीखें?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *